ishq risk

हमको ये मालुम है के आपको मालुम है हम आपसे इश्क​, बेहद इश्क करते है फिर भी क्युँ आप बार बार सबुत ढुड्ते हो हम खुदसे लाचार​, बेहद लाचार डरते […]

Read Article →

नाजायज एक्जिस्टेन्सियल क्राईसिस

प्यारी, आजको दिनपनि व्यर्थ सक्कियो। हिजो जस्तै, अस्ति जस्तै गरि। गर्नुपर्ने, सक्काउनु पर्ने एक करोड कामहरु तछाड मछाड गर्दैछन्। तर खै, न जोश छ न त जाँगर नै। मलाई सब […]

Read Article →

फकिर

सातों पेहर आपकी उन्सके जुस्तजुमैं खाना-ब-दोश हम दरबदर फिर्ते रहैं शामों-शेहर यूही कोही मौउत्जाके मुन्तजिरमे हम कत्रा-कत्रा गिर्ते रहैं काफिरोंकी बेकरारीमैं गुजरते हुए हम मुसाफीर भटक्ते रहैं हैं आप मञ्जिल-ए-रुहानियत […]

Read Article →

तिमी, म, अठोट र सपना

औँशिको रातमा त्यो पर क्षितिजमा; शान्त, स्थिर , उजेली धुव्रतारा तिमी । अतृप्त रहर साथमा सुनौलो बिहानी बिजमा; मस्त, चिर ,मिठा सपना सारा तिमी । उराठ शिशिर पश्चात् माधुर्य बसन्तमा; […]

Read Article →

देवदास देव-डी

एक तिमी नै रहेछौ पारो, बाँकी चन्द्रमुखीहरु बाल भो देवदास मात्र होइन पारो, मेरो त  देव-डी कै हाल भो यत्रतत्र जहाँ पनि मायाको नाममा व्यापार दलालहरुको मोलतोलमा मिसावट माया अपार […]

Read Article →