ishq risk

हमको ये मालुम है के आपको मालुम है हम आपसे इश्क​, बेहद इश्क करते है फिर भी क्युँ आप बार बार सबुत ढुड्ते हो हम खुदसे लाचार​, बेहद लाचार डरते […]

Read Article →

फकिर

सातों पेहर आपकी उन्सके जुस्तजुमैं खाना-ब-दोश हम दरबदर फिर्ते रहैं शामों-शेहर यूही कोही मौउत्जाके मुन्तजिरमे हम कत्रा-कत्रा गिर्ते रहैं काफिरोंकी बेकरारीमैं गुजरते हुए हम मुसाफीर भटक्ते रहैं हैं आप मञ्जिल-ए-रुहानियत […]

Read Article →